Rahat Indori Shayari in Hindi

Dr.Rahat Indori (born 1 January 1950) is an Indian Bollywood lyricist and Urdu language shayar and poet.He is vey popular for his uniqueness that he brings with his mesmerizing poems and shayari’s
.

Here we bring some of the best collection of Dr. Rahat Indori shayari.

Other popular shayari categories are love shayari,Maa Shayari,Sad Shayari and Good Morning status.

Rahat Indori Shayari – Jo duniya mae sunayi

rahat indori shayari

Jo duniya mae sunayi de,usse kehta hai khamoshi
Jo aankhon mae dikhai de,usse toofan kehte hai

जो दुनिया में सुनाई दे, उसे कहते हैं ख़ामोशी
जो आँखों में दिखाई दे, उसे तूफ़ान कहते हैं

Rahat Indori Shayari – Ajnabi Khwahishein Seene Mein

rahat indori shayari

Ajnabi Khwahishein Seene Mein Daba Bhi Na Sakun,

Aise Ziddi Hain Parinde Ke Uda Bhi Na Sakun,

Foonk Dalunga Kisi Roj Main Dil Ki Duniya,

Yeh Tera Khat To Nahi Ke Jala Bhi Na Sakun.


अजनबी ख़्वाहिशें सीने में दबा भी न सकूँ,

ऐसे ज़िद्दी हैं परिंदे कि उड़ा भी न सकूँ,

फूँक डालूँगा किसी रोज़ मैं दिल की दुनिया,

ये तेरा ख़त तो नहीं है कि जला भी न सकूँ।

Rahat Indori Shayari – Roj Taaron Ki Numaaish Mein

rahat indori shayari in hindi

Roj Taaron Ki Numaaish Mein Khalal Padta Hai,

Chand Pagal Hai Andhere Mein Nikal Padta Hai,

Roj Patthar Ki Himayat Mein Ghazal Likhte Hain,

Roj Sheeshon Se Koi Kaam Nikal Padta Hai.


रोज़ तारों को नुमाइश में ख़लल पड़ता है,

चाँद पागल है अँधेरे में निकल पड़ता है,

रोज़ पत्थर की हिमायत में ग़ज़ल लिखते हैं,

रोज़ शीशों से कोई काम निकल पड़ता है।

 Urdu Shayari – Use Ab Ke Wafaon Se Gujar

rahat indori shayari in hindi

Use Ab Ke Wafaon Se Gujar Jaane Ki Jaldi Thi,

Magar Iss Baar Mujhko Apne Ghar Jaane Ki Jaldi Thi,

Main Aakhir Kaun Sa Mausam Tumhare Naam Kar Deta,

Yehan Har Ek Mausam Ko Gujar Jaane Ki Jaldi Thi.


उसे अब के वफ़ाओं से गुजर जाने की जल्दी थी,

मगर इस बार मुझ को अपने घर जाने की जल्दी थी,

मैं आखिर कौन सा मौसम तुम्हारे नाम कर देता,

यहाँ हर एक मौसम को गुजर जाने की जल्दी थी।

Rahat Indori Shayari – Haath Khali Hain Tere Shehar

rahat indori shayari in hindi

Haath Khali Hain Tere Shehar Se Jaate-Jaate,


Jaan Hoti Toh Meri Jaan Lutate Jaate,

Ab Toh Har Haath Ka Pathar Humein Pehchanta Hai,

Umar Gujri Hai Tere Shehar Mein Aate Jaate.


हाथ खाली हैं तेरे शहर से जाते-जाते,

जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते,

अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है,

उम्र गुजरी है तेरे शहर में आते जाते।

Rahat Indori Shayari – Ab Na Main Hun

rahat indori

Ab Na Main Hun, Na Baaki Hai Zamane Mere,


Fir Bhi MashHoor Hain Shaharon Mein Fasane Mere,

Zindagi Hai Toh Naye Zakhm Bhi Lag Jayenge,

Ab Bhi Baaki Hain Kayi Dost Puraane Mere.


अब ना मैं हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे ,

फिर भी मशहूर हैं शहरों में फ़साने मेरे ,

ज़िन्दगी है तो नए ज़ख्म भी लग जाएंगे ,

अब भी बाकी हैं कई दोस्त पुराने मेरे।

Shayari – Luu Bhi Chalti Thi Toh

rahat indori shayari in hindi

Luu Bhi Chalti Thi Toh Baad-e-Shaba Kehte The,


Paanv Failaye Andheron Ko Diya Kehte The,

Unka Anjaam Tujhe Yaad Nahi Hai Shayad,

Aur Bhi Log The Jo Khud Ko Khuda Kehte The.


लू भी चलती थी तो बादे-शबा कहते थे,

पांव फैलाये अंधेरो को दिया कहते थे,

उनका अंजाम तुझे याद नही है शायद,

और भी लोग थे जो खुद को खुदा कहते थे।

Rahat Indori Shayari – Chehron Ke Liye Aayine Kurbaan

rahat indori shayari hindi

Chehron Ke Liye Aayine Kurbaan Kiye Hain,


Iss Shauk Mein Apne Bade Nuksaan Kiye Hain,

Mehfil Mein Mujhe Gaaliyan Dekar Hai Bahut Khush,

Jis Shakhs Par Maine Bade Ehsaan Kiye Hain.


चेहरों के लिए आईने कुर्बान किये हैं,

इस शौक में अपने बड़े नुकसान किये हैं,

महफ़िल में मुझे गालियाँ देकर है बहुत खुश ,

जिस शख्स पर मैंने बड़े एहसान किये है।

Rahat Indori Shayari – Teri Har Baat Mohabbat

rahat indori shayari hindi

Teri Har Baat Mohabbat Mein Ganwara Karke,


Dil Ke Bajaar Mein Baithe Hain Khasaara Karke,

Main Woh Dariya Hun Ke Har Boond Bhanwar Hai Jiski,

Tumne Achha Hi Kiya Hai Mujhse Kinaara Karke.


तेरी हर बात मोहब्बत में गँवारा करके ,

दिल के बाज़ार में बैठे हैं खसारा करके ,

मैं वो दरिया हूँ कि हर बूंद भंवर है जिसकी ,

तुमने अच्छा ही किया मुझसे किनारा करके।

Rahat Indori Shayari – Aankhon Mein Pani Rakho

Aankhon Mein Pani Rakho Hontho Pe Chingari Rakho,

Zinda Rahna Hai Toh Tarkeebein Bahut Saari Rakho,

Ek Hi Nadi Ke Hain Yeh Do Kinare Dosto,

Dostana Zindagi Se Maut Se Yaari Rakho.


आँख में पानी रखो होंटों पे चिंगारी रखो,

ज़िंदा रहना है तो तरकीबें बहुत सारी रखो,

एक ही नदी के हैं ये दो किनारे दोस्तो,

दोस्ताना ज़िंदगी से मौत से यारी रखो।

Rahat Indori Shayari – jise meine dil diya tha

Jise meine dil diya tha
vo dilli chalee gae
dilli mein gaya to vo italy chalee gae
socha de doon jaan bijali ke taar se
taar chhua to saalee bijalee chalee gae

जिसे में दिल दिया था
वो दिल्ली चली गई
दिल्ली में गया तो वो ईटलि चली गई
सोचा दे दूँ जान बिजलि के तार से
तार छुआ तो साली बिजली चली गई

Rahat Indori Shayari – Maine Apni Khushk Aankhon Se

Maine Apni Khushk Aankhon Se Lahoo Chalka Diya,

Ik Samandar Keh Raha Tha Mujhko Paani Chahiye.


मैंने अपनी खुश्क आँखों से लहू छलका दिया,

इक समंदर कह रहा था मुझको पानी चाहिए।

Rahat Indori Shayari – Aate Jate Hain Kayi Rang

Aate Jate Hain Kayi Rang Mere Chehre Par,

Log Lete Hain Mazaa Zikr Tumhara Kar Ke.


आते जाते हैं कई रंग मेरे चेहरे पर,

लोग लेते हैं मजा ज़िक्र तुम्हारा कर के।

Rahat Indori Shayari – J
avaab de na saka

rahat indori shayari hindi


Javaab de na saka, aur ban gaya dushman,
savaal tha, ke tere ghar mein aaeena bhee hai ?
zaroor vo mere baare mein raay de lekin,
ye poochh lena kabhee mujhase vo mila bhee hai…..

जवाब दे ना सका, और बन गया दुश्मन,

सवाल था, के तेरे घर में आईना भी है ?
ज़रूर वो मेरे बारे में राय दे लेकिन,
ये पूछ लेना कभी मुझसे वो मिला भी है…..

Rahat Indori Shayari – Mere dost kisi se ishq

rahat indori

Mere dost kisi se ishq kar
Magar hadd se guzar jaane ka nai

मेरे दोस्त किसी से इश्क़ कर
मगर हद से गुज़र जाने का नई

Rahat Indori Shayari – Faisla jo kuch bhi ho

rahat indori

Faisla jo kuch bhi ho manzoor hona chahiye
Jung ho ishq ho bharpoor hona chahiye

फ़ैसला जो कुछ भी हो मंज़ूर होना चाहिए
जंग हो इश्क़ हो भरपूर होना चाहिए

Rahat Indori Shayari – hon laakh zulm magar baddua nahin denge

hon laakh zulm magar baddua nahin denge
zameen maa hai zameen ko daga nahin denge
hamen to sirf jagaana hai sone vaalon ko
jo dar khula hai vahaan ham sada nahin denge

हों लाख ज़ुल्म मगर बद्दुआ नहीं देंगे
ज़मीन माँ है ज़मीं को दगा नहीं देंगे
हमें तो सिर्फ़ जगाना है सोने वालों को
जो दर खुला है वहाँ हम सदा नहीं देंगे

Rahat Indori Shayari – main na juganoo hoon

main na juganoo hoon diya hoon na koi taara hoon
roshanee vaale mere naam se jalte kyoon hain

मैं न जुगनू हूँ दिया हूँ न कोई तारा हूँ
रौशनी वाले मेरे नाम से जलते क्यूँ हैं

Rahat Indori Shayari – Na hamasafar na kisi hamanasheen
rahat indori shayari in Urdu

Na hamasafar na kisi hamanasheen se nikalega

Hamaare paanv ka kaanta hamee se nikalega.

न हमसफ़र न किसी हमनशीं से निकलेगा
हमारे पांव का कांटा हमीं से निकलेगा।

Rahat Indori Shayari – kabhi mehek ki tarah

rahat indori shayari in Urdu

kabhi mehek ki tarah hum gulon se udhte hain,
kabhi dhuue kee tarah parbaton se udhte hain.
ye kainchiyaan hamen udane se khaak rokengee,
ke ham pairon se nahin….. haunsalon se udate hain..!!

कभी महक की तरह हम गुलों से उड़ते हैं,
कभी धुंए की तरह पर्बतों से उड़ते हैं।
ये कैंचियां हमें उड़ने से ख़ाक रोकेंगी,
के हम परों से नहीं….. हौंसलों से उड़ते हैं..!!

Rahat Indori Shayari – Phir raah mein mausam

rahat indori shayari in Urdu

Phir raah mein mausam kee jhankaar vahee hogee,

Nikalenge safar par phir, raftaar vahee hogee.

फिर राह में मौसम की झंकार वही होगी,
निकलेंगे सफर पर फिर, रफ्तार वही होगी.

Rahat Indori Shayari – ye kya uthae kadam

ye kya uthae kadam, aur aa gayee manzil,
maza to jab hai ke pairon mein kuchh thakaan rahe….

ये क्या…. उठाए कदम, और आ गयी मंज़िल,
मज़ा तो जब है के पैरों में कुछ थकान रहे….

Rahat Indori Shayari – Bahut din se tumhe

rahat indori shayari Urdu

Bahut din se tumhe dekha nahi hai,
Ye Aankhon ke liye achchha nahi hai….

बहुत दिन से तुम्हें देखा नहीं है,
ये आँखों के लिए अच्छा नहीं है….

Rahat Indori Shayari – Roj vahee koshish

Roj vahee koshish jinda rahane kee…
Marane kee bhee kuchh taiyaaree kiya karo!

रोज वही कोशिश जिंदा रहने की…
मरने की भी कुछ तैयारी किया करो!

Rahat Indori Shayari – Jisakee jaisee haiseeyat

rahat indori shayari in Urdu

Jisakee jaisee haiseeyat
Vo vaisee kahaanee rakhata hai ,
Koi bandooken to
Koi parindon ke lie paani rakhata hai..

जिसकी जैसी हैसीयत
वो वैसी कहानी रखता है ,
कोई बंदूकें तो
कोई परिंदों के लिए पानी रखता है..!

Rahat Indori Shayari – kabhi dimaag kabhi dil

kabhi dimaag kabhi dil kabhi nazar mein raho
ye sab tumhaare hi ghar hain kisi bhee ghar mein raho

कभी दिमाग़ कभी दिल कभी नज़र में रहो
ये सब तुम्हारे ही घर हैं किसी भी घर में रहो

Rahat Indori Shayari – Musakuraata jo mila

rahat indori shayari Urdu

Musakuraata jo mila usako saja dee jaayegee
Aansuon kee is kadar keemat badha dee jaayegee.

मुसकुराता जो मिला उसको सजा दी जायेगी
आँसुओं की इस कदर कीमत बढ़ा दी जायेगी…

 

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here